चुनाव परिणाम बादशाहत के अहंकार पर चोट
{CEIME REVIEW}: ये चुनाव केवल सरकार बनाने के नहीं बल्कि भारत का भाग्य बदलने वाले साबित हो सकते हैं। भारत के इतिहास में पहली बार सारे देश में एक महानायक सर्वाधिक लोकप्रिय राजनेता के रूप में उभरे हैं, इस तथ्य को विपक्षी भी स्वीकार करते हैं। कोई स्मरण करे कि 1950 से 2013 तक ऐसा कौन-सा एक नेता हुआ जिसे.....

आगे पढ़ें...

62 बरस का अंधेरा 2014 की उम्मीद तले
15 अगस्त 1947 को आधी रात जब जवाहरलाल नेहरु भारत को गुलामी की जंजीरों से मुक्ति का एलान दिल्ली में संसद के भीतर कर रहे थे। उस वक्त देश की आजादी के नायक महात्मा गांधी दिल्ली से डेढ़ हजार किलोमीटर दूर कोलकत्ता के बेलीघाट में अंधेरे में समाये एक घर में बैठे थे। और शायद तभी संसद और समाजिक सरोकार के बीच प.....

आगे पढ़ें...

इतिहास का सबसे काला अध्याय : 15वीं लोकसभा का पतन
{HEMANT KUMAR MISHRA}: 15वीं लोकसभा का हाल ही में अवसान हुआ है और उसके अवसान गीत को किस प्रकार आरंभ किया जाए। यह भारत के लोकतंत्र के सर्वोच्च मंदिर के इतिहास का सबसे काला अध्याय है। इस लोकसभा के दौरान सदन में बार-बार तीखी नोक-झोंक, व्यवधान, शोर-शराबा और यहां तक कि हाथापाई की नौबत देखने को मिली जिसन.....

आगे पढ़ें...

तो क्या मोदी प्रधानमंत्री नहीं बनेंगे?

मैं जानता हूं कि कितने जोखिम के साथ मैंने यह शीर्षक लिखा है। इसे पढ़कर हो सकता है, कुछ लोग मेरी मानसिक दशा का परीक्षण करने को तैयार हो जाएं! मेरे विवेक पर सवाल उठाए जाएं। बहुत संभव है कि लोग मुझ अदना पत्रकार के खिलाफ कोई मुहिम ही छेड़ दें। यह भी हो सकता है कि कुछ लोग मेरे इस पत्रकारिता पर सवाल .....

आगे पढ़ें...

सियासत के ब्राण्ड
नरेंद्र मोदी के शब्दों में कभी भावनाओं की आंधी होती है, कभी मुद्दों को धार देते हैं, कभी उनका अंदाज़ मखौल उड़ाने वाला होता है तो कभी उनकी बातों में देश बदलने का नजरिया होता है।

विरोधी हो, समर्थक हो या फिर तटस्थ सियासत के इस नए करिश्मे को नजरअंदाज करना अब किसी के लिए मुमकिन नहीं। गुजरात के द.....

आगे पढ़ें...

1 2 3 4 5 6 7 8 9 10 11 12 13 14 15 16 17 18 19