पाकिस्तान से ‘सरकारी प्रेम’ का अर्थ क्या है
अचानक रात साढ़े दस बजे उत्तराखंड के अल्मोड़ा जिले के सुदूरवर्ती सीमा गांव असगोली से फोन आया और उधर से कहा गया ‘‘मैं लक्ष्मण सिंह अधिकारी बोल रहा हूं। मेरा भाई जैपाल सिंह अधिकारी भारतीय सैनिक था जो कश्मीर में शहीद हुआ। पाकिस्तानियों ने उसका सिर कटा शव भेजा था। हम अपने भाई की इस बर्बर और दुखद मृत्यु प.....

आगे पढ़ें...

भारतीय जवान, एलओसी, पांच हत्याएं, एक्सप्रैस ट्रिब्यून, नियंत्रण रेखा, लश्कर ए तोयबा, आईएसआई, जैश ए मोहम्मद
नियंत्रण रेखा पर 5 भारतीय जवानों की हत्या की जितनी भी निंदा की जाए, कम है। यह अक्षम्य भी है। इस बारे में कोई विवाद नहीं। फिर भी विपक्ष और मीडिया के कुछ वर्गों को बिना सोचे-समझे इस पर वावेला खड़ा करने की अनुमति देने से पूर्व हमें 2 सवालों के जवाब देने चाहिए थे। खेद की बात है कि किसी ने ये दोनों सवाल .....

आगे पढ़ें...

जब महात्मा गांधी ने कांग्रेस को ‘दफनाने’ की बात कही
भ्रष्टाचार के मुद्दे पर प्रधानमंत्री मनमोहन सिंह की निष्क्रियता एक ओर जहां उनका ट्रेडमार्क बन चुकी है, वहीं यह कांग्रेस की संस्कृति के विषय में उनकी गहरी समझ की भी परिचायक है। अक्सर चुप रहने वाले शांत स्वभाव के मनमोहन सिंह भारत की इस सबसे पुरानी पार्टी के बारे में हर प्रकार की जानकारी रखते हैं, जिसन.....

आगे पढ़ें...

सत्ताधारियों के इशारे पर नाचना बंद करे प्रशासनिक सेवा
भारतीय प्रशासनिक सेवा (आई.ए.एस.) देश के प्रशासन के शीर्ष पर है और वही प्रशासन को चलाती है। इसने उस इंडियन सिविल सर्विस (आई.सी.एस.) की जगह ली है जो भारत पर राज करने के लिए अंग्रेजों के हाथों का एक औजार थी। आजादी के बाद, इस पर गंभीरता से विचार किया जा रहा था कि देश में एक अखिल भारतीय प्रशासनिक सेवा हो.....

आगे पढ़ें...

राजनीति में अपराधीकरण देश के लिए सबसे बड़ा संकट
पिछले 65 वर्षों में भारत इतने अधिक संकट से कभी नहीं घिरा था जितना आज प्रतिदिन घिरता जा रहा है। संकट बाहर के कम, अन्दर के, अपनों के और अपने ही नेताओं द्वारा पैदा किए गए अधिक हैं। देश को राजनीति ने चलाना है और पूरी राजनीति भ्रष्टाचार के शिकंजे में सिसक रही है। सच तो यह है कि बाड़ ही खेत को खा रही है।.....

आगे पढ़ें...

1 2 3 4 5 6 7 8 9 10 11 12 13 14 15 16 17 18 19