सोशल इंजीनियरिंग संघ की बिसात पर
नरेन्द्र मोदी, रामविलास पासवान और उदित राज। तीनों की राजनीतिक मजबूरी ने तीनों को एक साथ ला खड़ा किया है। या फिर तीनों के लाभालाभ ने एक दूसरे का हाथ थामने के हालात पैदा कर दिये हैं। 2014 के आम चुनाव को लेकर बिछते राजनीतिक बिसात पर बीजेपी की सोशल इंजीनियरिंग का यह नायाब चेहरा है। या फिर पहली बार संघ प.....

आगे पढ़ें...

हर दाग धो देंगे मोदी के तीन इक्के !
रामविलास पासवान। रामदास आठवले और उदितराज। मोदी के लिये अब यही वह तिकड़ी है जो देश भर में बीजेपी के मंच पर खडे होकर दलित वोट बैंक में सेंध लगायेगी। संघ परिवार के लिये भी अपने राजनीतिक स्वयंसेवक को पीएम पद पर पहुंचाने के लिये यह अपने तरीके की पहली राजनीतिक बिसात होगी जब हिदुत्व की प्रयोगशाला के लिये ज.....

आगे पढ़ें...

बीजेपी को राजनीति का ककहरा पढ़ा रहा है संघ
नरेन्द्र मोदी गुजरात के बाहर यूपी में चुनाव लड़ेंगे कहां से। इस पर फैसला बीजेपी या मोदी नहीं बल्कि संघ परिवार करेगा। यानी यूपी में जिन दो लोकसभा सीटों को लेकर लगातार कयास भी लगाये जा रहे हैं कि मोदी बनारस या लखनऊ से। तो इस पर आखिरी मुहर अगले दो दिनों में संघ लगायेगा। और एलान दिल्ली में 8 मार्च को सं.....

आगे पढ़ें...

भटकते हुए क्या खोज रहे हैं राहुल गांधी
देश के हर रंग को साथ जोड़कर ही कांग्रेस बनी थी और आज कांग्रेस के नेता राहुल गांधी को कांग्रेस को गढ़ने के लिये देश के हर रंग के पास जाना पड़ रहा है। दिल्ली में कुलियों के बीच। झारखंड में आदिवासियों के बीच,बनारस में रिक्शा, खोमचे वालों के साथ तो गुजरात में नमक बनाने वालों के बीच। और संयोग देखिये कि 1.....

आगे पढ़ें...

मोदी को पारस या केजरी को पत्थर, किसे क्या मिलेगा बनारस में ?
खाक भी जिस ज़मी की पारस है, शहर मशहूर यह बनारस है। तो क्या बनारस पहली बार उस राजीनिति को नया जीवन देगा जिस पर से लोकतंत्र के सरमायेदारों का भी भरोसा डिगने लगा है। बनारस की तहजीब, बनारस का संगीत , बनारस का जायका या फिर बनारस की मस्ती। राजनीति के आईने में यह सब कहां फिट बैठता है। लेकिन नरेन्द्र मोदी औ.....

आगे पढ़ें...

1 2 3 4 5 6 7 8 9 10 11 12 13 14 15 16 17 18 19