बाहुबलीः किडनैपिंग किंग के नाम से मशहूर था बबलू श्रीवास्तव, जुर्म की दुनिया में बबलू का नाम अपहरण करने के लिए कुख्यात था

अंडरवर्ल्ड में कई ऐसे नाम हैं जो छोटी जगहों से निकलकर जुर्म की दुनिया में छा गए. जो अपराध करते-करते इतना आगे बढ़ गए कि उनका नाम भारत की सरहद के बाहर भी गुनाहों के लिए जाना गया. अडंरवर्ल्ड में किडनैपिंग किंग के नाम से कुख्यात ऐसा ही एक नाम है बबलू श्रीवास्तव का. जो कॉलेज से निकलकर जुर्म की दुनिया में बाहुबली बनकर सामने आया.

कौन है बबलू श्रीवास्तव

माफिया डॉन बबलू श्रीवास्तव का असली नाम ओम प्रकाश श्रीवास्तव है. वह मूल रूप से उत्तर प्रदेश के गाजीपुर जिले का रहने वाला है. उनका घर आम घाट कॉलोनी में था. उसके पिता विश्वनाथ प्रताप श्रीवास्तव जीटीआई में प्रिंसिपल थे. बबलू का बड़ा भाई विकास श्रीवास्तव आर्मी में कर्नल है.

आईएएस या सेना अधिकारी बनना चाहता था बबलू

ओमप्रकाश श्रीवास्तव उर्फ बबलू ने एक बार पेशी के दौरान खुद मीडिया के सामने खुलासा किया था कि वह अपने भाई की तरह सेना में अफसर बनना चाहता था. या फिर उसे आईएएस अधिकारी बनने की ललक थी. लेकिन उसकी जिंदगी को कॉलेज की एक छोटी सी घटना ने पूरी तरह बदल दिया. और वह कुछ और ही बन गया.

जुर्म की दुनिया में पहला कदम

बबलू श्रीवास्तव की जिंदगी में सबकुछ ठीक चल रहा था. वह लखनऊ विश्वविद्यालय में लॉ का छात्र था. 1982 में वहां छात्रसंघ चुनाव हो रहे थे. बबलू का साथी नीरज जैन चुनाव में महामंत्री पद का उम्मीदवार था. प्रचार जोरों पर था. छात्र नेता एक दूसरे को हराने के लिए किसी भी हद तक जाने को तैयार थे. इसी दौरान दो छात्र गुटों में चुनावी झगड़ा हुआ. जिसमें किसी ने एक छात्र को चाकू मार दिया. घायल छात्र का संबंध लखनऊ के माफिया अरुण शंकर शुक्ला उर्फ अन्ना के साथ था. इस मामले में अन्ना ने बबलू श्रीवास्तव को आरोपी बनाकर जेल भिजवा दिया. यह बबलू के खिलाफ पहला मुकदमा था. यहीं से उसके मन में नफरत की आग जलने लगी थी.

अन्ना के विरोधी गैंग में एंट्री

बबलू श्रीवास्तव कुछ दिन बाद जमानत पर छूटकर बाहर आ गया. लेकिन अन्ना का गिरोह उस पर नजर लगाए बैठा था. पुलिस ने कुछ दिन बाद फिर से उसे अन्ना के कहने पर स्कूटर चोरी के झूठे आरोप में बबलू को जेल भेज दिया. इस घटना से नाराज घरवालों ने उसकी जमानत भी नहीं कराई. इसके बाद बबलू को दो हफ्ते जेल में रहना पड़ा. उसके बाद वाहन चोरी की की वारदातों में बबलू का नाम आ गया. इस बात परेशान होकर बबलू ने अपना घर छोड़ दिया. उसने एक हॉस्टल में रहने के लिए कमरा ले लिया. इसी दौरान वह अन्ना के विरोधी माफिया रामगोपाल मिश्र के सम्पर्क में आ गया और उसके लिए काम करने लगा. यही वो वक्त था जब बबलू ने अपराधी की दुनिया में कदम रख दिया था. अब वह पीछे मुड़कर नहीं देखना चाहता था.

किडनैपिंग किंग बन गया था बबलू

लॉ की शिक्षा हासिल करने वाला बबलू उत्तर प्रदेश, बिहार और महाराष्ट्र तक अपनी पकड़ बना चुका था. उसने अंडरवर्ल्ड की दुनिया में अपहरण को तरजीह दी. इस धंधे में उसने कई लोगों को मात दे दी थी. उसके नाम पुलिस ने अपहरण के कई मामले दर्ज किए थे. उसने फिरौती के लिए कई लोगों का अपहरण किया. फिरौती वसूली. अपहरण की धमकी देकर भी कई बड़े लोगों से पैसा वसूल किया. अपहरण की दुनिया में उसके नाम का सिक्का चलने लगा था. छोटे गैंग अपहरण करके 'पकड़' उसे लाकर सौंप देते थे और फिर वह सौदेबाजी करके फिरौती की रकम वसूल करता था. पुलिस उससे कारनामों से परेशान थी. जुर्म की दुनिया में लोग उसे किडनैपिंग किंग कहने लगे थे.

दाऊद इब्राहिम के साथ किया काम

बबलू श्रीवास्तव ने कॉलेज से लॉ की पढ़ाई तो पूरी की लेकिन साथ ही वह अपराध की दुनिया में भी बहुत आगे बढ़ चुका था. 1984 से शुरू हुआ उसका आपराधिक ग्राफ तेजी से बढ़ता जा रहा था. उसके खिलाफ उत्तर प्रदेश समेत कई राज्यों में अपहरण, फिरौती, अवैध वसूली और हत्या जैसे संगीन मामले दर्ज होते गए. 1989 में वह पुलिस से बचने के लिए चंद्रास्वामी से मिला. लेकिन उसके साथ बबलू की ज्यादा नहीं बनी. बबूल वहां से नेपाल चला गया और कुछ साल वहां रहने के बाद वह 1992 में दुबई जा पहुंचा. जहां नेपाल के माफिया डॉन और राजनेता मिर्जा दिलशाद बेग ने उसकी मुलाकात अंडरवर्ल्ड डॉन दाऊद इब्राहीम से कराई.

मुंबई धमाकों के बाद छोड़ा दाऊद का साथ

सिर पर दाऊद का हाथ आ जाने से बबलू श्रीवास्तव की ताकत बढ़ती जा रही थी. उसकी पहचान भारत से बाहर भी होने लगी थी. अब वह तस्करी के मामलों में हाथ आजमा रहा था. सबकुछ ठीक चल रहा था. लेकिन 1993 में अचानक मुंबई एक साथ कई धमाकों से दहल गई. इन धमाकों के पीछे डॉन दाऊद इब्राहिम का नाम आने लगा. इसी दौरान छोटा राजन और बबलू श्रीवास्तव समेत कई लोगों ने डी कंपनी को अलविदा कह दिया. कभी दाऊद के लिए जान देने का मादा रखने वाले छोटा राजन और बबलू श्रीवास्तव अब उसके दुश्मन बन गए थे.

एडिशनल कमिश्नर की हत्या में उम्रकैद

यूं तो अपने आपराधिक जीवन में बबलू श्रीवास्तव ने कई ऐसी घटनाओं को अंजाम दिया था जो किसी फिल्म की कहानी से कम नहीं लगती. लेकिन पुणे में एडिशनल पुलिस कमिश्नर एलडी अरोड़ा की हत्या के मामले में बबलू का नाम सुर्खियों में आ गया था. आरोप था कि बबलू और उसके साथी मंगे और सैनी ने सरेआम एडिशनल कमिश्नर अरोड़ा को गोलियों से भून दिया था. इस मामले की सुनवाई करते हुए बबलू और उसके साथियों को अदालत ने दोषी माना. और तीनों को उम्रकैद की सजा सुनाई थी.

बबलू का अधूरा ख्वाब

कई साल से जेल में बंद बबलू श्रीवास्तव ने ‘अधूरा ख्वाब’ नाम से एक किताब लिखी. जिसमें उसने अपनी जिंदगी की कई घटनाओं का जिक्र किया है. उसमें वे वारदात भी शामिल हैं जिनकी वजह से वह किडनैपिंग किंग कहलाने लगा था. उसने किताब में अंडरवर्ल्ड डॉन दाऊद इब्राहिम से मुलाकात और उसके साथ काम करने का जिक्र भी किया है. साथ ही बबलू ने दाऊद से दुश्मनी और गैंगवार को भी किताब में जगह दी है. इस किताब पर आधारित एक फिल्म बनाए जाने की तैयारी थी. जिसमें अभिनेता अरशद वारसी को बबलू का किरदार निभाना था.

कड़ी सुरक्षा के बीच बंद है बबलू

1995 में माफिया डॉन बबलू श्रीवास्तव मॉरिशस में पकड़ा गया था. उसके बाद उसे भारत लाया गया. यहां उसके खिलाफ करीब 60 मामले चल रहे थे. जिसमें से अब केवल चार लंबित हैं. कई मामलों में उसे सजा सुनाई जा चुकी है. इस दौरान कई बार ऐसे मामलों का खुलासा हुआ जिनमें बबलू की जान लेने की साजिश रची गई थी. इन सभी मामलों के पीछे अक्सर डी कंपनी का नाम आया. एक बार पुलिस ने खुलासा किया था कि बबलू की हत्या के लिए बड़ी सुपारी दी गई थी. लेकिन वह बच गया. फिलहाल, वह बरेली की सेंट्रल जेल में बंद है. उसे कड़ी सुरक्षा के बीच रखा गया है. पेशी के लिए बाहर जाने के वक्त उसे बुलैटप्रूफ जैकेट और हैलमेट पहनाकर ले जाया जाता है.

जेल में ही सुरक्षित है बबलू

अब बबलू श्रीवास्तव जेल में ही खुद को सुरक्षित मानता है. कानूनी जानकारों का मानना है कि उसे पेरोल पर रिहाई मिल सकती है. मगर बबलू ने कभी कोर्ट में पेरोल के लिए पैरवी नहीं की. राजनीति में बबलू की ज्यादा दिलचस्पी नहीं है. अगर वह जेल से छूट जाता तो उसका इरादा फिल्में बनाने का था.

Posted By : Crime Review
Like Us on Facebook