यूनिटी सिटी गोल चैराहे के दक्षिण तरफ श्री दुर्गा प्रसाद पाण्डेय का अवैध व्यवसायिक काम्पलेक्श का ध्वस्तीकरण के आदेश होने के बावजूद भी श्री दुर्गा प्रसाद पाण्डेय द्वारा कुट रचना करते हुए भोली-भाली जनता को गुडम्बा पुलिस और लखनऊ विकास प्राधिकरण के मिलीभगत से ठगा जाना बदस्तूर जारी है।

दुर्गा प्रसाद पाण्डेय के अवैध निर्माणाधीन काम्पलेक्श के बारे में जब एल0डी0ए0 से पूछा गया कि आप अवैध निर्माण को रोकते क्यो नही है तो लखनऊ विकास प्राधिकरण के सर्वोच्च पद पर आशीन अधिकारी ने न बताने के शर्त पर बताया कि मिश्रा जी हम इस निर्माण को रोक नही सकते है क्योंकि हमारे ऊपर बहुत दबाव है हमने लखनऊ के वरिष्ठ पुलिस अधीक्षक को पत्रांक संख्या 1583/सचिव/E.E.P(T.G.)/15 दिनांक-03.11.2015, पत्रांक संख्या 1686/सचिव/E.E.P(T.G.)/15 दिनांक-22.02.2015, पत्रांक संख्या 2026/सचिव/E.E.P(T.G.)/16 दिनांक-15.02.2016 को अवैध निर्माण को रोकने हेतु दिया था लेकिन वरिष्ठ पुलिस अधीक्षक की स्थिल रवैया से यह प्रतीत होता है कि जिले का कप्तान भी कही न कही से बिल्डर के दबाव मे है आप माननीय हाईकोर्ट से ध्वस्तीकरण का आदेश लाइए हम रात को भी जा के गिरा देगें। पत्र, शिकायतीपत्र कोर्ट का आदेश तक न पुलिस आपकी सहयोग करेगी न लखनऊ विकास प्राधिकरण क्योंकि सभी लोग पैसा खाकर आचेतन अवस्था में चले गये है लखनऊ विकास प्राधिकरण हो या पुलिस महक्मा इनकी चेतना तब जगेगी जब माननीय उच्च न्यायालय का आवमानना की नोटिस देगें। हाल ही के मथुरा घटना के बारें में आप तो वाकिफ होगें ही वहाॅ भी आप ही के जैसे कोई अमुख व्यक्ति लगभग तीन वर्ष से पत्राचार, कोर्ट, कचहरी का चक्कर काट रहा था कि अवैध कब्जें को गिराया जायें लेकिन किसी के कान में जू तक नही रेंगता था लेकिन माननीय उच्च न्यायालय की आवमानना की नोटिस मिलते ही अवैध निर्माण तो छोडिए कितनी लाशें गिर गयी किसी को पता नही यहाॅ भी यही होगा जब तक माननीय उच्च न्यायालय का आवमानना की नोटीस नही मिलेगी तब तक शासन और प्रशासन कोई कार्यवाही नही करेगा।

दुर्गा प्रसाद पाण्डेय द्वारा लगभग 25 दुकानों को विभिन्न ग्राहकों को अवैध रूप से बेच दिया गया है एवं बाकी दुकानो की रजिस्ट्री भी शीघ्रता शीघ्र करवाने का प्रयास किया जा रहा है । दुर्गा प्रसाद पाण्डेय द्वारा ग्राहको को यह बताया जा रहा है कि निर्माणाधीन भवन का मानचित्र लखनऊ विकास प्राधिकरण से स्वीकृत है और निर्माण मानकों के अनुरूप हो रहा है बहादुरपुर यूनिटी सिटी चैराहे पर श्री दुर्गा प्रसाद पाण्डेय द्वारा निर्माणाधीन काम्पलेक्श शुरूवात से ही विवादों का केन्द्र रहा है। एक तरफ जहाॅ लखनऊ विकास प्राधिकरण शहर में अवैध निर्माणों को रोकनें की कागजी कार्यवाही करती है तो दूसरी तरफ दुर्गा प्रसाद पाण्डेय जैसे मोटी आसामी से मोटी लेकर अवैध निर्माण करवाते है। दुर्गा प्रसाद पाण्डेय द्वारा भोले-भाले ग्राहको को ठग कर दुकानों को बेचा रहा है और ग्राहको को यह तथ्य नही बताया जा रहा है कि उक्त भवन को ध्स्तीकरण का आदेश पारित हो गया है यह कि उक्त अवैध निर्माणाधीन भवन के ध्वस्त होने की सूरत मे ग्राहकों के हाथ में कुछ भी नही आयेगा । दुर्गा प्रसाद पाण्डेय को उक्त निर्माणाधीन भवन में निर्मित दुकानों को बेचने से रोका जाये जिससे कि भोले-भाले ग्राहकों का धन डूबने से बचाया जा सके और उनके साथ कोई धोखा न हो सके ।

अतः इन अवैध निर्माण के विरूद्ध नियमों के अन्तर्गत कठोरत्तम कार्यवाही किये जाने एवं क्षेत्रीय अभियन्ताओं का उत्तरदायित्व निर्धारित कर उनके विरूद्ध भी दण्डात्मक कार्यवाही की जाने नितान्त आवश्यकता है जिससे अवैध निर्माण पर अंकुश लगाया जा सके।


Posted By : Crime Review
Like Us on Facebook