लखनऊ डी0एम0, एल0डी0ए0 वी0सी0, जिले की एस0एस0पी0 समाजवादी सरकार में ये सब हुए बेलगाम पूर्व चीफ जस्टिस उत्तर प्रदेश माननीय न्यायमूर्ति डाॅ0 डी0 वाई0 चन्द्रचूड़ जी के आदेशो को माननीय मुख्यमंत्री अखिलेश यादव के चहेते अफसर ही अपने जूते तले रौंदते है माननीय न्यायमूर्ति सारे आदेश

लखनऊ विकास प्राधिकरण के अवर अभियन्ता श्री पी0एन0 पाण्डेय, अवर अभियन्ता जी0आर0 सिहं, सहायक अभियन्ता आर0एस0 सिहं को लाखों रूपये खिलाकर तथा माननीय मुख्यमंत्री के करीबी मंत्री के द्वारा पुलिस और एल0डी0ए0 वी0सी0 पर दबाव बनाकर फारूख सिद्द्की, अनवार सिद्दकी/एम0एस0 शिजा बिल्डर्स प्रा0 लिमिटेड द्वारा अवैध निर्माण यूनिटी सिटी गोल चैाराहा के दक्षिण तरफ ग्राम- बहादुरपुर, थाना-गुडम्बा मे माननीय उच्च न्यायालय में विचाराधीन होने के बावजूद शिजा बिल्डर्स द्वारा भोले-भाले ग्राहको ठगा जाना बदस्तूर जारी है

फारूख सिद्द्की, अनवार सिद्दकी/एम0एस0 शिजा बिल्डर्स प्रा0 लिमिटेड का अवैध निर्माणाधीन काम्पलेक्श का हुआ ध्वस्तीकरण का आदेश नही काम माननीय मुख्यमंत्री श्री अखिलेश यादव के करीबी मंत्री का पुलिस और लखनऊ विकास प्राधिकरण पर दबाव फारूख सिद्द्की, अनवार सिद्दकी हुए चारों खानें चित नही काम आया रसूख.

यूनिटी सिटी गोल चैराहा के दक्षिण तरफ ग्राम-बहादुरपुर में फारूख सिद्द्की, अनवार सिद्दकी/एम0एस0 शिजा बिल्डर्स प्रा0 लिमिटेड द्वारा लखनऊ विकास प्राधिकरण से बिना मानचित्र स्वीकृत कराये व्यवसायिक भवन का निर्माण कराया जा रहा था जिसे लखनऊ विकास प्राधिकरण द्वारा सील कर दिया गया । फारूख सिद्द्की, अनवार सिद्दकी/एम0एस0 शिजा बिल्डर्स प्रा0 लिमिटेड द्वारा उक्त सील को तोड़ कर पुनः अवैध निर्माण शुरू करने पर लखनऊ विकास प्राधिकरण द्वारा फारूख सिद्द्की, अनवार सिद्दकी/एम0एस0 शिजा बिल्डर्स प्रा0 लिमिटेड के विरूद्ध प्रथम सूचना रिपोर्ट अपराध संख्या-388/2015 अन्तर्गत धारा 447 आई0 पी0 सी0 दर्ज कराया गया था लेकिन पुनः लखनऊ विकास प्राधिकरण के अवर अभियन्ता श्री पी0एन0 पाण्डेय, अवर अभियन्ता जी0आर0 सिहं, सहायक अभियन्ता आर0एस0 सिहं से साठगाठ कर पुनः निर्माण कार्य जारी है फारूख सिद्द्की, अनवार सिद्दकी/एम0एस0 शिजा बिल्डर्स प्रा0 लिमिटेड द्वारा उक्त प्रथम सूचना रिपोर्ट दर्ज होने के बावजूद भी अवैध निर्माण नही रोका गया तब उक्त अवैध निर्माण के विरूद्ध माननीय उच्च न्यायालय में जनहित याचिका 981/2016 हेमन्त कुमार मिश्रा बनाम उ0प्र0 सरकार योजित की गई है जो विचाराधीन है। उक्त जनहित याचिका की सुनवाही के दौरान लखनऊ विकास प्राधिकरण के अधिवक्ता द्वारा माननीय उच्च न्यायालय को अवगत कराया गया कि उक्त अवैध निर्माण के ध्वस्त करने की कार्यवाही नियत प्राधिकारी लखनऊ विकास प्राधिकरण के यहाँ विचाराधीन है !

लेकिन वर्तमान स्थिति यह है कि फारूख सिद्द्की, अनवार सिद्दकी/एम0एस0 शिजा बिल्डर्स प्रा0 लिमिटेड का अपार्टमेन्ट नियत प्राधिकारी लखनऊ विकास प्राधिकरण के यहा से ध्वस्तीकरण का आदेश दिनांक-10.05.2016 को हो गया जिसका वाद संख्या-237/2015 था।

फारूख सिद्द्की, अनवार सिद्दकी/एम0एस0 शिजा बिल्डर्स प्रा0 लिमिटेड तथा अन्य के द्वारा पुनः लखनऊ विकास प्राधिकरण मे Compounding के लिए प्रत्यावेदन दिया गया है जो विचाराधीन है इसके बाद हमारे द्वारा माननीय उच्च न्यायालय में Dispose of का प्रत्याावेदन दिनांक-09.09.2016 को सुनवाई करते हुए माननीय उच्च न्यायालय लखनऊ ने दिनांक-26.09.2016 की तारीख नियत की गई है।




Posted By : crime review
Like Us on Facebook