एस0एस0पी0 लखनऊ अगर थाना गुडम्बा प्रभारी ऋषिकेश यादव साकारात्क प्रवृत्ति के नही होते तो नही टलता हादसा

लखनऊ। थाना गुडंबा अन्तर्गत रिंग रोड़ पर लकड़ी से लदी ट्रैक्टर ट्राली मे अचानक आग लग गई। आग का विकराल रूप देखकर अफरा तफरी मच गई। जानकारी पाकर मौके पर पहुंची गुडंबा पुलिस आग की विकराल लपटों को देखते थाना गुडम्बा प्रभारी ऋषिकेश यादव के कड़ी मुशक्कत के बाद पायीे आग पर काबू ।
शुक्रवार रात लगभग 8 बजे मलिहाबाद से (यू0पी0 58 एच0-5212) रिंग रोड़ से मुन्शीपुलिया की तरफ जा रही थी। ट्राली भावना काम्पलेक्श के पास पहुंची ही थी कि अचानक आग लग गई।
आनन फानन मे ट्राली चालक अपनी जान बचाकर दूर भाग खड़ा हुआ। और आग विकराल होने के चलते क्षेत्र में भगदड़ मच गया स्थानीय लोगो ने घटना की जानकारी पुलिस और फायर बिग्रेड को दी।
बक्शी का तालाब की फायर स्टेशन जब तक टीम आती तब तक थाना गुडम्बा प्रभारी ऋषिकेश यादव अपने सहयोगी एस0आई0 पंकज मिश्रा, एस0आई0 भूपेन्द्र सिहं, कांस्टेबल राजेन्द्र व अन्य पुलिस कर्मियों ने अपनी जान की परवाह किये बगैर आग की लपटों के बीच आ गये और आग बुझाने की कवायत तेज कर दी थाना गुडम्बा प्रभारी ऋषिकेश यादव ने खुद ही फायर ब्रिगेड का काम किया गुडम्बा पुलिस की बहादुरी और गुडम्बा थाना प्रभारी ऋषिकेश यादव के सजगता से एक बड़ा हादसा टल गया। फायर बिग्रेड़ के आने से पहले पूर्ण रूप से थाना गुडम्बा के थाना प्रभारी ऋषिकेश यादव ने आग पर काबू पा लिया था।
थाना प्रभारी ऋषिकेश यादव ने बताया कि ट्राली कुलदीप यादव की बतायी जा रही है और वन विभाग से लकड़ी ले जाने की बात सामने आई हैं

विधिक कार्यवाही की जा रही है।

गुडम्बा थाना प्रभारी ऋषिकेश यादव ने यह भी बताया कि बड़े हादसा की अशंका को देखते हुए मै भाग कर पड़ोस में ही रहने वालें आई0ए0एस0 अधिकारी डाॅ0 भास्कर उपाध्याय के घर गये और पानी का पाइप मांग लायें और खुद पानी डालने लगे जिससे की आग पर काबू पाया जा सका और बड़ा हादसा टल गया।
यह भी बात सामने आयी है कि आई0ए0एस0 अधिकारी डाॅ0 भास्कर उपाध्याय के सुपरवाइजर शैलेन्द्र शुक्ला मामूली रूप से घायल हो गये है।

इस दुर्घटना में सबसे बड़ी बात अगर कुछ गौर करने वाली है तो वह यह है की

गुडम्बा थाना प्रभारी ऋषिकेश यादव अगर नाकरात्मक प्रवृत्ति के होते तो न आग बुझाने के लिए खुद मुशक्कत करते न पानी का पाइप लाते आज के दौर के थानेदारों को इनसे सीख लेने की जरूरत है। जिले की कप्तान को भी चाहिए की गुडम्बा थाना प्रभारी ऋषिकेश यादव को कम से कम पुरूस्कृत करंे। ताकि इनका मनोबल जो साकारात्क प्रवृत्ति का है वह साकारात्मक बनी रहें।

Posted By : Crime Review
Like Us on Facebook