बाप बेटे की लड़ाई के कारण सपा टूट की ओर अग्रसर

लखनऊ: टूट की ओर अग्रसर सपा के संरक्षक मुलायम सिंह यादव और उनके भाई शिवपाल सिंह यादव आगामी नवरात्रि में नई पार्टी की घोषणा कर सकते हैं। सपा का राष्ट्रीय प्रतिनिधिमंडल सम्मेलन आगामी 5 अक्टूबर को आगरा में बुलाया गया है। राजनीतिक हल्कों में कयास लगाए जा रहे हैं कि राष्ट्रीय सम्मेलन से पहले ही मुलायम सिंह यादव द्वारा नई पार्टी बनाने का निर्णय लिया जा सकता है।

सपा अध्यक्ष अखिलेश यादव के चाचा शिवपाल सिंह यादव के अनुसार, जल्द ही नई पार्टी के गठन की घोषणा की जाएगी। उनका कहना था कि वह और नेता जी (मुलायम सिंह यादव) चाहते हैं कि पार्टी और परिवार एक रहे, लेकिन अखिलेश यादव अपनी जिद पर अड़े हैं। उनकी जिद की वजह से मजबूरन नई पार्टी के गठन के बारे में सोचना पड़ रहा है।

सपा का प्रदेशीय सम्मेलन 23 सितंबर को लखनऊ में और राष्ट्रीय सम्मेलन 5 अक्टूबर को आगरा में है। आगरा से मिली रिपोर्ट के अनुसार राष्ट्रीय सम्मेलन के लिए लगने वाले होर्डिंग्स में मुलायम सिंह यादव का चित्र नहीं रहेगा। पार्टी के वरिष्ठ नेता और मुलायम सिंह यादव के करीबी न बताया कि नई पार्टी का नाम समाजवादी सेकुलर फ्रंट हो सकता है और इसकी घोषणा नवरात्रि में की जा सकती है।

मुलायम सिंह यादव और शिवपाल सिंह यादव के समर्थकों ने जिलेवार अपने लोगों को चिन्हित करना शुरु कर दिया है। उनका दावा था कि अखिलेश यादव के नरेश उत्तम सहित उनके कई नजदीकी अपने जिलों में विधानसभा की एक भी सीट जिताने की स्थिति में नहीं है। दु:खद तो यह है कि ऐसे लोग ‘नेताजी’ पर उंगली उठा रहे हैं। उधर,अखिलेश यादव के समर्थक विधायक सुनील सिंह का कहना है कि पार्टी लगातार मजबूत हो रही है। जिसको जहां जाना हो वो जाए। सन् 2019 के लोकसभा चुनाव में पार्टी का प्रदर्शन बेहतर रहेगा और 2022 में सपा सरकार बनाएगी।

Posted By : crime review
Like Us on Facebook