सरकार तो बदल गई लेकिन उदयराज सिंह वर्मा की मानसिकता नहीं बदली आज भी उदयराज सिंह वर्मा लेखपाल के द्वारा जमीन को बेचकर खुलेआम दलाली खा रहा है।

बहादुरपुर खसरा संख्या-71 से दि ग्रेटर अवध सहकारी आवास लि0 के सचिव अन्नवार अहमद द्वारा क्रय की गई 11028 वर्ग फुट लेकिन नगर निगम लेखपाल सुनील दत्त वर्मा से मिली भगत कर बेच दिया गया 20341.686 वर्ग फुट अगर नगर आयुक्त नगर निगम लखनऊ श्री उदय राज सिंह वर्मा तथा नगर निगम तहसीलदार श्री देश दीपक सिंह अपने जाति के लेखपाल के द्वारा बेचकर खायी जा रही दलाली में अगर हिस्से नहीं तो कार्रवाही क्यों नहीं।

उत्तर प्रदेश की राजधानी लखनऊ में स्थित ग्राम-बहादुरपुर, तहसील-सदर, जिला-लखनऊ, के खसरा सं0-69 जो राजस्व अभिलेखों में मिट्टी निकालने के नाम से दर्ज है। जिसका रकबा लगभग 34014 वर्गफिट है जिसके मिलाजुला खसरा सं0-71 है। जिसका क्षेत्रफल 0.410 हेक्टेयर है जिसमें से दि ग्रेटर सहकारी आवास समिति लि0 के सचिव अन्नवार अहमद द्वारा 26.03.2002 को 0.125 हेक्टेयर, 11028 वर्गफुट क्रय किया गया। लेकिन अन्नवार अहमद पुत्र स्व0 मुनीर शेख द्वारा लगभग 20314 वर्ग फिट भूमि दि ग्रेटर अवध सहकारी आवास सिमिति लि0 विक्रय कर दी गई।
जिसका विवरण निम्नवत है। -

लेखपत्र सं0 वर्ष रकब

1-जावेद अनवार फारूकी 8747 2002 139.405

2-राज नारायन वर्मा 3782 2003 55.77

3-उर्मिला देवी 11296 2003 55.77

4-इन्द्रपाल सिंह 11782 2003 46.47

5-शारदा सिंह 12098 2003 52.05

6-छेदी लाल 12414 2003 111.52

7-अनवर अहमद 308 2004 65.05

8-दीपक कुमार 1013 2006 185.88

9-गायत्री 5502 2006 69.702

10-इसरार अहमद 940 2007 94.99

11-सफात उल्ला खाँ 944 2007 250.93

12-विपिन कुमार शुक्ला 5504 2007 58.55

13-कन्हैया लाल अवस्थी 6219 2007 27.88

14-मली उल्लाह 941 2007 141.45

15-कमरूल हसन 7422 2008 83.64

16-कमरूल हसन 4475 2011 83.64

17-काजी मोहम्मद स्वालेह 1531 2012 41.821

18-मोहन लाल 6896 2013 55.762

19-उमा सिंह 2890 2014 74.349

20-सपना सिंह 8112 2014 83.64

21-अतहर सईद उस्मानी 8102 2014 111.52

11,028-वर्गफुट 1889.789 वर्ग मीटर,
20341.686-वर्गफुट 20341.686 वर्गफुट

अन्नवार अहमद की शिकायत नगर आयुक्त नगर निगम, कलेक्टर/ जिलाधिकारी, आयुक्त/सचिव राजस्व परिषद, प्रमुख सचिव राजस्व, माननीय मुख्यमंत्री उत्तर प्रदेश सरकार, महामहिम राज्यपाल को कतिपय बार शिकायती पत्र के द्वारा शिकायत की गई लेकिन सपा सरकार में विशेष जाति का व्यक्ति होने के कारण कोई कार्रवाई नहीं हुई।
तो माननीय उच्च न्यायालय लखनऊ में एक जनहित याचिका भी योजित किया गया। जिस पर माननीय न्यायालय ने संज्ञान लेते हुए आदेश किया कि 122-बी के तहत कार्रवाई करें। लेकिन उपरोक्त अधिकारियों के द्वारा कोई संज्ञान नहीं लिया गया। नगर आयुक्त उदयराज सिंह वर्मा को उपरोक्त रजिस्ट्रियों का अवलोकन कराते हुए जब यह संज्ञान में लाया गया कि अन्न्वार अहमद द्वारा लगभग 10,000 वर्ग फिट सरकारी भूमि बेच दिया गया है। तो नगर आयुक्त नगर निगम लखनऊ ने मौखिक तौर पर आश्वासन दिया कि कार्रवाई करेंगे। लेकिन पल्टूराम के जैसे पलट गये। उदयराज सिंह वर्मा नगर आयुकत नगर निगम का क्रियाकलाप संदेह के घेरे में है। ऐसा प्रतीत होता है कि नगर आयुक्त नगर निगम उदयराज सिंह वर्मा स्थानीय लेखपाल सुनील दत्त वर्मा द्वारा 71 के आधार पर 69 की सरकारी जमीन बेचने में बराबर के सहभागी हैं। जिसकी सूचना पुनः 17.12.2017 पुनः माननीय मुख्यमंत्री उत्तर प्रदेश सरकार, शहरी विकास मंत्री उत्तर प्रदेश सरकार, मुख्य सचिव उत्तर प्रदेश सरकार, प्रमुख सचिव नगर विकास उत्तर प्रदेश शासन, प्रमुख सचिव गृह उत्तर प्रदेश शासन, आयुक्त एवं सचिव राजस्व परिषद उत्तर प्रदेश, नगर आयुक्त नगर निगम लखनऊ, तहसीलदार नगर निगम लखनऊ को पुनः सबूतों के साथ प्रार्थनापत्र प्रस्तुत किया है। लेकिन उदयराज सिंह वर्मा का क्रियाकलाप समाजवादी सरकार से भी बदतर है। सरकार तो बदल गई लेकिन उदयराज सिंह वर्मा की मानसिकता नहीं बदली आज भी उदयराज सिंह वर्मा लेखपाल के द्वारा जमीन को बेचकर खुलेआम दलाली खा रहा है। कतिपय मामलों में उदयराज सिंह द्वारा नोटिस जारी किया गया। फिर लेनदेन कर जिस जमीन अवैध निर्माण भी बदस्तूर जारी है। ग्राम बहादुरपुर खसरा संख्या-71 से दि ग्रेटर अवध सहकारी आवास लि0 के सचिव अन्नवार अहमद द्वारा क्रय की गई 11028 वर्ग फुट लेकिन नगर निगम लेखपाल सुनील दत्त वर्मा से मिली भगत कर बेच दिया गया 20341.686 वर्ग फुट अगर नगर आयुक्त नगर निगम लखनऊ श्री उदय राज सिंह वर्मा तथा नगर निगम तहसीलदार श्री देश दीपक सिंह अपने जाति के लेखपाल के द्वारा बेचकर खायी जा रही दलाली में अगर हिस्से नहीं तो कार्रवाही क्यों नहीं।

Posted By : Crime Review
Like Us on Facebook