अखिलेश यादव को महाराष्ट्र सपा अध्यक्ष अबू आज़मी की दो टूक, कांग्रेस से न करें गठबंधन

साफ़ कहा कि अगर कांग्रेस से गठबंधन किया तो मैं और आप आमने-सामने होंगे

समाजवादी पार्टी के अध्यक्ष व पूर्व मुख्यमंत्री अखिलेश यादव के 2019 में होने वाले लोकसभा चुनाव में मजबूत विपक्ष के लिए गठबंधन करने में अड़चनें आ सकती हैं. सारे विपक्ष को साथ लेकर चुनाव लड़ने की मंशा पर अखिलेश यादव को झटका लग सकता है. सपा नेता अबू आजमी ने अखिलेश यादव को चिट्ठी लिख कांग्रेस से गठबंधन न करने की सलाह दी है. महाराष्ट्र इकाई के अध्यक्ष अबू आजमी ने कांग्रेस को ‘धोखेबाज’ और ‘अंदर से नरम हिन्दुत्ववादी पार्टी’ करार देते हुए कहा कि इस पार्टी से सपा का गठबंधन होने पर वह अपने प्रत्याशी खड़े करेंगे.

मीडिया रिपोर्ट्स के अनुसार आजमी ने सपा अध्यक्ष को गत 25 अप्रैल को लिखे पत्र में मुम्बई महानगर पालिका के प्रभाग के चुनाव में कांग्रेस के विरोधी रुख का जिक्र करते हुए कहा है ‘‘कांग्रेस एक अवसरवादी, धोखेबाज और अंदर से नरम हिन्दुत्ववादी पार्टी है. धर्मनिरपेक्षता को बचाने की जिम्मेदारी सिर्फ हमारी ही नहीं है. आप कांग्रेस के साथ उसी वक्त गठबंधन कीजिये जब सारे देश में जहां-जहां हमारी पार्टी है, वहां हमारी शक्ति के मुताबिक हमें हिस्सा मिले.’’

एक न्यूज़ एजेंसी से बात करते हुए अबू आजमी ने कहा कि पिछली 19 अप्रैल को उनके विधानसभा क्षेत्र के तहत आने वाले मुम्बई महानगर पालिका के प्रभाग का चुनाव था. चुनाव जीतने के लिए सपा को कांग्रेस के एकमात्र वोट की सख्त जरूरत थी, लेकिन उसके इकलौते नगरसेवक विठल लोकरे ने पार्टी प्रदेश अध्यक्ष संजय निरूपम के इशारे पर खुलेआम शिवसेना को वोट दिया.

आजमी ने सपा अध्यक्ष को भेजे गये खत में यह भी लिखा है कि अगर आप (अखिलेश) कांग्रेस के साथ गठबंधन करेंगे तो मैं अपना उम्मीदवार लड़ाऊंगा और तब एक तरफ आप कांग्रेस के साथ होंगे और हम कांग्रेस के खिलाफ चुनाव लड़ेंगे. इस सवाल पर कि क्या वह कांग्रेस से गठबंधन की स्थिति में सपा से बगावत करेंगे, आजमी ने कहा कि वह ऐसा बिल्कुल नहीं करेंगे.

इस बीच, सपा के राष्ट्रीय सचिव राजेन्द्र चौधरी ने कहा कि उन्हें आजमी के पत्र के बारे में कोई जानकारी नहीं है. इस सवाल पर कि क्या अखिलेश कर्नाटक में कांग्रेस प्रत्याशियों के समर्थन में चुनाव प्रचार करने जाएंगे, चौधरी ने कहा कि सपा अध्यक्ष का कर्नाटक में प्रचार करने जाने का कोई कार्यक्रम ही नहीं बना है. उन्होंने कहा कि सपा ने कर्नाटक विधानसभा चुनाव में कुछ सीटों पर अपने प्रत्याशी उतारे हैं लेकिन अखिलेश के उनके पक्ष में प्रचार करने के लिये जाने का भी फिलहाल कोई कार्यक्रम तय नहीं है

Posted By : CRIME REVIEW
Like Us on Facebook