अयाेध्या में कारसेवकाें के नरसंहार काे लेकर सनसनीखेज खुलासा

क्राइम रिव्यू लखनऊ: राम जन्मभूमि बाबरी मस्जिद विवाद का एक नया खुलासा सामने आया है। जब तत्कालीन सरकार ने मुस्लिम वीरों की खातिर बाबरी मस्जिद को गिराने वाले प्रदर्शनकारियों पर अंधाधुंध गोलिया चलाई थीं।

अंग्रेजी के एक निजी टीवी चैनल कहा कि जब प्रदर्शनकारी मस्जिद को गिराने की कोशिश करने लगे तो राज्य में सपा की सरकार थी और तत्कालीन मुख्यमंत्री मुलायम सिंह यादव ने मस्जिद को बचाने के लिए हरसंभव कोशिश की थी।

खबर में कहा गया है कि प्रदर्शनकारियों को हुजुम को खदेड़ने के लिए पुलिस ने अंधाधुंध फायरिंग की जिसमें भारी संख्या में हिंदू मारे गए। यह भी कहा गया कि मृतकों के शवों को जलाने की जगह जमीन में दफनाया गया।

खुलासे में स्पष्ट कहा गया कि हर रोज 10 से 15 प्रदर्शनकारियों के शव दफनाए जाते थे। सरकारी आंकड़ों में मृतकों की संख्या 16 बताई गई मगर मरने वालों की संख्या अधिक थी। यह भी बताया गया कि मुलायम सिंह यादव ने तब कहा था कि अगर और भी जानें जाती तो उनको कोई परवाह नहीं थी वह तब भी मस्जिद को ही बचाते। लेकिन प्रदर्शनकारी अपने इरादों में कामयाब हो गए और मस्जिद को गिरा दिया गया।

Posted By : क्राइम रिव्यू सप्ताहिक अखबार लखनऊ
Like Us on Facebook